Explore the world with Literature, Exchange your thoughts with world in just few clicks at Sahity Live. Sahity Live is the best way to read online articles as well as publish your own articles on the Internet. Sahity Live is a service of DishaLive Group. For publish your articles; send your article with your photograph & introduction to email: publish@sahity.com.

 

Sahity Live Logo

दिशा-लाइव ग्रुप के सानिध्य में चलाया जा रहा साहित्य लाइव मंच हिंदी लेखको के सफल भविष्य के निर्माण में निरंतर कार्यरत है। साहित्य लाइव एक सामूहिक प्रयास है जिसका उद्देश्य विलुप्त हो रही हिंदी के प्रभुत्व को सभी के सहयोग से प्रचार व् प्रसार के द्वारा बनाये रखना है। उसी प्रक्रिया में इस मंच को तैयार किया गया है और नए व् उभरते रचनाकारों को एक ऐसा मंच प्रदान करने का प्रयास है जहां से वो प्रत्यक्ष रूप से जनता तक पहुँच सके और स्वप्रेरित होकर आगे बढ़ने का प्रोत्साहन मिल सके। इसके लिए आधुनिक तकनीको का प्रयोग कर बहुत सारी सेवाएं प्रदान की जा रही है ताकि लेखक की कलम और पाठक के मन दोनों वर्गों का हिंदी के प्रति लगाव रहे।
साहित्य लाइव की शुरुआत 26 जनवरी 2017 को www.sahity.com वेबसाइट के रूप में की गयी। जिसके संस्थापक मिस्टर आशीष घोडेला (हिसार, हरियाणा) है। जिन्होंने अपने साथियो के सहयोग से एक सराहनीय कदम उठाया। और आप सबको जानकार बहुत ख़ुशी होगी की अब साहित्य लाइव मात्र वेबसाइट तक सीमित नहीं है। समय व् जरूरत के अनुसार लेखको के हितो को ध्यान में रखते हुए इसमें नयी नयी सुविधाओं को जोड़ा जाता है। जैसे :-

  • साहित्य लाइव पत्रिका :- यह एक डिजिटल पाक्षिक पत्रिका है जिसके द्वारा आपकी रचनाये इंटरनेट और सोशल मीडिया के प्रयोग से देश के कोने कोने में पाठको तक पहुचती है।
  • प्रतियोगिताये :- लेखको, कवियों व् रचनाकारों को प्रोत्साहित करने के लिए साहित्य लाइव द्वारा समय समय पर विभिन्न प्रतियोगिताओ का आयोजन किया जाता है।
  • कवि सम्मेलन :- आगामी समय में साहित्य लाइव द्वारा देश के अनेक स्थानों पर भव्य कवि सम्मेलनों का आयोजन किया जाएगा जिसमे साहित्य लाइव से जुड़े सदस्यों को शिखर तक पहुचने का सुनहरा अवसर मिलेगा।
  • साहित्य लाइव चैनल :- रचनाकारों द्वारा भेजी गयी ऑडियो को विडियो में परिवर्तित कर के चैनल पर दिखाया जाता है। जिससे लेखकों का आत्मविश्वास बढ़ सके और एक उज्जवल भविष्य का निर्माण हो सके।
  • रविपथ पत्रिका :- हरियाणा की साप्ताहिक पत्रिका जिसमे उतम व् प्रेरणादायी लेखो को स्थान दिया जाता है जिससे लेखको की प्रतिभा निरंतर निखरती जाती है। ऐसी बहुत सारी पत्रिकाओं और अखबारों से साहित्य लाइव टीम संपर्क कर रही है, ताकि ज्यादा से ज्यादा हमारे लेखकों को फायदा हो सके।

साहित्य लाइव अब मात्र प्रकाशन तक सीमित नहीं है, बल्कि यह एक अद्भुत मंच है जहाँ पर माँ सरस्वती के आशीर्वाद से कलम प्रेमियों का विकास किया जाता है।

Sahity Live Recent Updates

अगर आपका लेख 24 घंटो में साहित्य लाइव पर प्रकाशित नहीं होता तो क्या करें?

आप सभी के सहयोग के आपका पुनः धन्यवाद। साथियों आपका कोई भी लेख जो आपके द्वारा भेजा गया है, यदि उसका लिंक आपके पास लेख भेजने के 24 घंटे के अंदर आपको प्राप्त नहीं होता है। तो आप message या कॉल द्वारा तुरंत सम्पर्क करे ताकि समय पर आपको लिंक मिल सके और आप अगली…

Read More
Sahity Live Kavi Smmelan Banner

[Event] साहित्य लाइव द्वारा आने वाली 19 मई 2018 को होगा राष्ट्रीय कवि सम्मेलन

साहित्य की कलम से मन की आवाज़ तक, लेखनी की ताकत और मंच की साज तक, निरंतर आप लोगो के अथक प्रयास और अमूल्य सहयोग से साहित्य लाइव कदम-कदम आगे बढ़ता जा रहा है। दिशा लाइव ग्रुप के सानिध्य में संचालित साहित्य लाइव ने अपने लेखको को मंच देने का वादा किया था, और आप…

Read More

RSS Recent Articles

  • एक सलाम पुलवामा के शहिदों के नाम।-पूजा पाटनी February 18, 2019
    आज फिर आँख हो गई नम। दिल की धड़कन गई थम।। जब हमने देखा सड़क पर एक छोटा बच्चा अपने बाप की गोद में खेल रहा था। तो याद आ गया वो मंजर कि पुलवामा में भी एक गोद का बच्चा अपने पिता को अंतिम विदाई दे रहा था। जब देखा नया सुहागन चूड़ा किसीComplete […]
  • जब प्यार किसी से होता है-मेघना भारद्वाज February 18, 2019
    खुली आँखों से सपने देखना भी कितना आसान होता है। जब प्यार किसी से होता है। हज़ारो तनाव के बाद भी उस एक शख्श से बात करना कितना अच्छा लगता है। जब प्यार किसी से होता है। रोज डे, परपोज़ डे। का इम्पोर्टेंस भी ज़िन्दगी में बढ़ जाता है। जब प्यार किसी से होता है।Complete […]
  • मुक़तक- अफ़साना ज़िन्दगी का-Tk सिंह February 18, 2019
    1- कब तलक सहते रहें हम रोज रोज का यह ख़ून ख़राबा, कब तलक हम नापाक से किसी शराफ़त की उम्मीद करें, आख़िर कब तलक बस बातें ही करते रहेंगे ये दिल्ली वाले, कब तलक हम देश के वीर जवानों को हर रोज शहीद करें 2- दर्द तो अब भी बहुत है इस दिल मेंComplete […]
  • जिन्दगी जीना- जितेन्द्र कुमार शर्मा February 18, 2019
    जिंदगी है साठ पिसा, साठ पिसा ही जिनि है। 40 पिसा है नमकीन 20 पिसा जाने चीनी है। जिंदगी है साठ पिसा, साठ पिसा ही जिनि है। सगळा यारा से छुड़ाया साथ थोड़ी सी ये कमीनी है। जिंदगी है साठ पिसा, साठ पिसा ही जिनि है। 50 पैसे लगे जहर 10 पैसे जैसे रसना कोComplete […]
  • चौदह फरवरी का दिन-प्रशांत अग्रवाल February 18, 2019
                   (पुलवामा अटैक) फरवरी का महीना था। मंद-मंद शीतल हवाएं और हल्की बारिश की बूंदे झलक रही थी। देश भर में ख़ुशी का माहौल था। एक तरफ चुनावों का संग्राम था, तो दूसरी और वैलेंटाइन का प्यार। बड़े बड़े राजनेता रैलियां में बिजी थे, और आज के युवा वैलेंटाइन में। देश भर में उत्तरComplete […]
  • पुलवामा में शहीद अमर सपूतों को श्रद्धांजलि देने वाली कविता- पुष्पेन्द्र यादव February 18, 2019
    पाकिस्तान जैसे आतंकवादी देशों को चुनौती एवं भारत के अमर सपूतों को श्रद्धांजलि देने वाली कविता – जिन वीरों ने देश के खातिर , अपना लहू बहाया . हुए शहीद देश के खातिर , मौत को गले लगाया. जिन दुष्टों ने इस धरती पर , नाहक पैर जमाया . भारत मां के बेटों ने उनComplete […]
  • पलक… (चेतन वर्मा) February 18, 2019
    पलक चाहती है, नजरें झुकाना मगर क्या करूं मैं बुरा है जमाना कान कसोटी करके दिल को भर देते हैं हंसी के ठहाके लगाकर औरों को डस लेते हैं खेल निराला यारा जुबा की बातें पुरानी खुद को सिकंदर समझ कर वाह-वाही कर लेते हैं खुद को खड़ा करके मैं जग को दिखा दूंगा तूComplete […]
  • जिन्दगी जीना-जीतेन्द्र कुमार February 18, 2019
    जिंदगी है साठ पिसा, साठ पिसा ही जिनि है। 40 पिसा है नमकीन 20 पिसा जाने चीनी है। जिंदगी है साठ पिसा, साठ पिसा ही जिनि है। सगळा यारा से छुड़ाया साथ थोड़ी सी ये कमीनी है। जिंदगी है साठ पिसा, साठ पिसा ही जिनि है। 50 पैसे लगे जहर 10 पैसे जैसे रसना कोComplete […]
  • अब गांडीव उठाने दो-मुकेश रजवंत February 18, 2019
    बहुत हुआ समझाना मोदी ,अब गांडीव उठाने दो । अब आतंकी पाकी को नक्शे से मिटाने दो। यूँही न जाने देंगे 40 जवानो की शहादत को। तोड़ – मरोड रिपु की हड्डी -पँसली एक बना दूँ। अब सहन नहीं ये आतंक  इसे नक्शे से मिटा दूँ। किसी के मंगल सूत्र टूटे, किसी की कोख हुईComplete […]
  • हे अनुपम भानु ।-विनीत शर्मा February 18, 2019
    हे अनुपम भानु ! मेरे दिल में ऐसा ज्योति बिखरा दो । शाम ढले तो लाली छाए। निशा तो निंद भर गाए ।। हे अनुपम भानु ! ऐसा मुझे वरदान दो । हर मानव को निती सिखाये । अपना पराया सामान बनायें ।। हे अनुपम भानु ! ऐसा संतान मुझे बना दो । दीन –Complete […]