Explore the world with Literature, Exchange your thoughts with world in just few clicks at Sahity Live. Sahity Live is the best way to read online articles as well as publish your own articles on the Internet. Sahity Live is a service of DishaLive Group. For publish your articles; send your article with your photograph & introduction to email: [email protected]

 

Sahity Live Logo

दिशा-लाइव ग्रुप के सानिध्य में चलाया जा रहा साहित्य लाइव मंच हिंदी लेखको के सफल भविष्य के निर्माण में निरंतर कार्यरत है। साहित्य लाइव एक सामूहिक प्रयास है जिसका उद्देश्य विलुप्त हो रही हिंदी के प्रभुत्व को सभी के सहयोग से प्रचार व् प्रसार के द्वारा बनाये रखना है। उसी प्रक्रिया में इस मंच को तैयार किया गया है और नए व् उभरते रचनाकारों को एक ऐसा मंच प्रदान करने का प्रयास है जहां से वो प्रत्यक्ष रूप से जनता तक पहुँच सके और स्वप्रेरित होकर आगे बढ़ने का प्रोत्साहन मिल सके। इसके लिए आधुनिक तकनीको का प्रयोग कर बहुत सारी सेवाएं प्रदान की जा रही है ताकि लेखक की कलम और पाठक के मन दोनों वर्गों का हिंदी के प्रति लगाव रहे।
साहित्य लाइव की शुरुआत 26 जनवरी 2017 को www.sahity.com वेबसाइट के रूप में की गयी। जिसके संस्थापक मिस्टर आशीष घोडेला (हिसार, हरियाणा) है। जिन्होंने अपने साथियो के सहयोग से एक सराहनीय कदम उठाया। और आप सबको जानकार बहुत ख़ुशी होगी की अब साहित्य लाइव मात्र वेबसाइट तक सीमित नहीं है। समय व् जरूरत के अनुसार लेखको के हितो को ध्यान में रखते हुए इसमें नयी नयी सुविधाओं को जोड़ा जाता है। जैसे :-

  • साहित्य लाइव पत्रिका :- यह एक डिजिटल पाक्षिक पत्रिका है जिसके द्वारा आपकी रचनाये इंटरनेट और सोशल मीडिया के प्रयोग से देश के कोने कोने में पाठको तक पहुचती है।
  • प्रतियोगिताये :- लेखको, कवियों व् रचनाकारों को प्रोत्साहित करने के लिए साहित्य लाइव द्वारा समय समय पर विभिन्न प्रतियोगिताओ का आयोजन किया जाता है।
  • कवि सम्मेलन :- आगामी समय में साहित्य लाइव द्वारा देश के अनेक स्थानों पर भव्य कवि सम्मेलनों का आयोजन किया जाएगा जिसमे साहित्य लाइव से जुड़े सदस्यों को शिखर तक पहुचने का सुनहरा अवसर मिलेगा।
  • साहित्य लाइव चैनल :- रचनाकारों द्वारा भेजी गयी ऑडियो को विडियो में परिवर्तित कर के चैनल पर दिखाया जाता है। जिससे लेखकों का आत्मविश्वास बढ़ सके और एक उज्जवल भविष्य का निर्माण हो सके।
  • रविपथ पत्रिका :- हरियाणा की साप्ताहिक पत्रिका जिसमे उतम व् प्रेरणादायी लेखो को स्थान दिया जाता है जिससे लेखको की प्रतिभा निरंतर निखरती जाती है। ऐसी बहुत सारी पत्रिकाओं और अखबारों से साहित्य लाइव टीम संपर्क कर रही है, ताकि ज्यादा से ज्यादा हमारे लेखकों को फायदा हो सके।

साहित्य लाइव अब मात्र प्रकाशन तक सीमित नहीं है, बल्कि यह एक अद्भुत मंच है जहाँ पर माँ सरस्वती के आशीर्वाद से कलम प्रेमियों का विकास किया जाता है।

Sahity Live Recent Updates

राष्ट्रीय प्रतिभा खोज – 2019 | सदस्यता पंजीकरण

राष्ट्रीय साहित्य चेतना मंच द्वारा आयोजित राष्ट्रीय प्रतिभा खोज – 2019 में भाग लेने के लिए इस फॉर्म को भरें! इस प्रतियोगिता के नियम और ईनाम निम्न है:

Read More

अगर आपका लेख 24 घंटो में साहित्य लाइव पर प्रकाशित नहीं होता तो क्या करें?

आप सभी के सहयोग के आपका पुनः धन्यवाद। साथियों आपका कोई भी लेख जो आपके द्वारा भेजा गया है, यदि उसका लिंक आपके पास लेख भेजने के 24 घंटे के अंदर आपको प्राप्त नहीं होता है। तो आप message या कॉल द्वारा तुरंत सम्पर्क करे ताकि समय पर आपको लिंक मिल सके और आप अगली…

Read More
Sahity Live Kavi Smmelan Banner

[Event] साहित्य लाइव द्वारा आने वाली 19 मई 2018 को होगा राष्ट्रीय कवि सम्मेलन

साहित्य की कलम से मन की आवाज़ तक, लेखनी की ताकत और मंच की साज तक, निरंतर आप लोगो के अथक प्रयास और अमूल्य सहयोग से साहित्य लाइव कदम-कदम आगे बढ़ता जा रहा है। दिशा लाइव ग्रुप के सानिध्य में संचालित साहित्य लाइव ने अपने लेखको को मंच देने का वादा किया था, और आप…

Read More

RSS Recent Articles

  • देश क्या बचाओगे (भाग-२) April 7, 2020
    कब तक विभिषणों के सहारे लुक छिप षड्यंत्र रचाओगे। भगत, बोस फिर आ गये जो फिर भागने की जगह न पाओगे।। तुम तो रूपयों पर बिकनेवाले दूश्मन से दोस्ती बढ़ाओगे। षड्यंत्र में शामिल होकर अपनों को ही कष्ट पहुचाओगे।। देश की हर साजिश मे चंद जयचंदो का हाथ होता है। उनपर दया जो हम दिखाते […]
  • “तलाश” April 7, 2020
    “चला था इश्क की तलाश मैं मंजिल ,रिचार्ज की दुकान पर खत्म हुई” The post “तलाश” appeared first on Sahity Live :: Sahity.com.
  • “तलाश” April 7, 2020
    “चला था इश्क की तलाश मैं मंजिल ,रिचार्ज की दुकान पर खत्म हुई” The post “तलाश” appeared first on Sahity Live :: Sahity.com.
  • Aajadi ke diwano April 7, 2020
    o aajadi k diwano…… hum tumhe salaam karte hai, tumhari veerta tumhari kahaani hum nitya din yaad karte hai… wo din wo pal yaad karte hai, jab bharat partantrata ki janjeer se bandha tha… log sawtantra k liya taraste the, isi ke liye jeete or isi ke liye marte the. iske liye kitne logo ne […]
  • आशा की किरण April 7, 2020
    आशा की किरण कि तुम आशा की किरण हो अपने माता पिता के लिए उसे निराशा मे मत बदल देना ऐ जमाना ही कुछ ऐसा हो गया वो कुछ भी कहेगा इससे कही घबरा ना जाना तुम… तुम मे लाख अच्छाई होगी मगर ये जमाना फिर भी बुराई निकाल ही लेगा इससे कभी निराश ना […]
  • आशा की किरण April 7, 2020
    आशा की किरण कि तुम आशा की किरण हो अपने माता पिता के लिए उसे निराशा मे मत बदल देना ऐ जमाना ही कुछ ऐसा हो गया वो कुछ भी कहेगा इससे कही घबरा ना जाना तुम... तुम मे लाख अच्छाई होगी मगर ये जमाना फिर भी बुराई निकाल ही लेगा इससे कभी निराश ना […]
  • दिये जलाए | April 6, 2020
    दिये जलाए | आज भारत ने खूब दिये जलाए | अपनी एकता का परिचय दिखाये| जल कोरोना भस्म हुआ या नही| है संकट मे फिर भी जस्न मनाए | घरो बंद जिंदगी उम्मीद तलासती| हर दिल चाह कोरोना मार भगाये | लौट आई हंसी थोड़ी देर ही सही | जोश मे कुछ ने बम पड़ाके […]
  • उज्जैन यात्रा उमा मित्तल April 6, 2020
    उज्जैन यात्रा उमा मित्तल धार्मिक विचारों की होने के कारण मुझे ज्योतिर्लिंग के दर्शन और धार्मिक स्थलों में रुचि है उज्जैन मध्य प्रदेश में शिप्रा नदी के तट पर बसा हुआ है इसे महाकाल की नगरी के नाम से जाना जाता है | उज्जैन में दर्शन योग्य प्रसिद्ध स्थान :- 1. श्री बड़ा गणेश मंदिर […]
  • कोविड-१९ प्रकाश पर्व April 6, 2020
    हमने दीप जलाये , हमने दीप जलाये खुशियों को मन में समाऐ । कोरोना को हराना था इसलिए दीपों को जलाना था । हमने दीपो को जलाया और कोरोना को हराया । हमने हराया कोरोना को साथ में हारा अंधेरा है। हमने दीप जलाये, हमने दीप जलाये खुशियों को मन में समाऐ। हमने देखा जिस […]
  • हाय रे मौसम प्यारा । April 6, 2020
    हाय रे मौसम प्यारा, हाय रे मौसम प्यारा । “कैसा विलक्षण ये मौसम आया दिवस उज्ज्वल और रात्रि भीगी बनाया सायं काल की शीतल लहरे, एवं दिन का प्रहरी उज्ज्वल काश ये मौसम ऐसा ही रहता प्रातः काले धूप सायं काले काला भूप निकलता बहुत ही भाता ये प्यार मौसम मुझे भूप निकलते ही परन्तु […]